HomeBUSINESS IDEAS मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? How To Start...

[2024] मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? How To Start Mushroom Farming Business

मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें 2024 How to start mushroom farming Business in Hindi

जैसा की आप लोगों को मालूम है कि आज की तारीख में युवाओं का रुझान बिजनेस की तरफ ज्यादा है क्योंकि बिजनेस से अधिक पैसे कमाए जा सकते हैं और साथ में अपना भविष्य भी सुरक्षित किया जा सकता है ऐसे में अगर आप भी बिजनेस शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं।

लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि कौन सा बिजनेस करें जिसमें आपको अधिक मुनाफा हो तो हम आपको बता दें कि आज के समय में मशरूम की डिमांड भारतीय बाजारों में बहुत अधिक है और आप इसी खेती कर कर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

mushroom farming business hindiऔर अगर आप एक किसान है तो आपके लिए ये बिजनेस आइडिया सोने पर सुहागा साबित होगा। अब आपके मन मे सवाल आएगा कि मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? (How To Start Mushroom Farming Business) इसके लिए निवेश, मुनाफा कितना होगा, लोन कैसे मिलेगा अगर आप इन सब के बारे में नहीं जानते हैं तो आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े तो आइये जानते है। 

Table of Contents

मशरूम क्या है? (What is Mushroom)

मशरुम एक तरह का कवक (Fungus) पौधा है। भले ही यह पौधा है फिर भी इसे मांस की तरह देखा जाता है। आप इसको पूरी तरह से शाकाहारी पौधा नहीं बोल सकते। इसमें बहुत ही अधिक मात्रा में प्रोटीन, विटामिन B, विटामिन D और पोटैशियम जैसे तत्व पाए जाते है। इसका निर्माण फफूंद से होता है एवं इसका आकार एक छत्ते के आकर के जैसे होता है। 

मशरूम की खेती का व्यापार क्या है?

आज के वक्त में किसान मशरूम की खेती कर लाखों रुपए कमा रहे हैं यही वजह है कि मशरूम की खेती का व्यापार आज काफी लोगों के बीच में प्रचलित हो गया है। और आप भी इसकी खेती कर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं। जैसा कि हमने आपको बताया कि मशरुम कोई एक पौधा नहीं है।

बल्कि इसकी खेती बिल्कुल वैसे की जाती है। जैसे दूसरे फसलों की जाती है हालांकि मशरूम को पौधे की कैटेगरी में गिना जाता है यह देखने में बिल्कुल मांस की तरह होता है। जब कोई व्यक्ति मशरूम की खेती इसलिए करता है की वो इसे उत्पादन करके बाजार में बेच कर मुनाफा काम सके तो इसे ही मशरुम फार्मिंग कहा जाता है।

मशरूम कितने प्रकार का होता है? (Types of Mushroom)

पूरी दुनिया में मशरूम 10000 प्रकार के पाए जाते हैं लेकिन उनमें से पांच मशरूम खाने में इस्तेमाल किए जाते हैं जिसकी जानकारी निचे दी गई है। 

  • वाइट बटन मशरूम (White Button Mushroom)
  • ढिंगरी या ओएस्टर मशरूम (Oyster Mushroom)
  • मिल्की मशरूम (Milky Mushroom)
  • पैडी स्ट्रॉ (Paddy Mushroom)
  • शिटाके मशरूम (shiitake mushroom)

इनमें से सबसे अधिक भारतीय बाजारों में वाइट बटन मशरूम की डिमांड है और अधिकांश लोग इस मशरूम को खाना पसंद करते हैं क्योंकि बटन मशरूम खाने में काफी स्वादिष्ट और कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। 

मशरूम कितन प्रकार से उगाया जाता है?

मशरूम तीन प्रकार से उगाया जाता है जिसकी जानकारी निचे दी गई है। 

  1. मशरूम को बाँस के ऊपर लेटा कर भी उगाया जाता है इसमें लागत कम आती है ऐसे में अगर आप पहली बार की खेती करें हैं तो आप इस विधि का प्रयोग कर सकते हैं। 
  2. प्लास्टिक के थैली में मशरूम के बीज को डालकर इसे हवा में लटका दिया जाता है इस तरीके से भी आज की तारीख में मशरूम की खेती बहुत ज्यादा की जा रही है। 
  3. मशरूम के बीज को जमीन से थोड़ी ऊपर रखा जाता है और साथ में उसे प्लास्टिक से ढक दिया जाता है। ताकि सूरज की रोशनी उस पर ना पड़ सके सके इस प्रक्रिया से भी मशरूम तेजी के साथ उगाया जा रहा है। 

भारत में कौन-कौन से मशरूम उगाए जाते हैं?

भारत के अंदर निम्नलिखित प्रकार के मशरूम की खेती (mushroom ki kheti) किसानों के द्वारा की जाती है। जिसकी पूरी जानकारी निचे दी गई है। 

 1.सफेद मशरूम :

सफेद बटन मशरूम की भारतीय बाजारों में काफी डिमांड है और यही वजह है कि से अधिकांश लोगों के द्वारा खाया  जाता है इसकी खेती मुख्य तौर पर निम्न तापमान वाले क्षेत्र में की  जाती है। 

2. ढींगरी मशरूम : 

इस प्रजाति के मशरूम को पूरे साल उगाया जाता है. इसकी खेती के लिए 30 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान सबसे उपयुक्त माना जाता है और इसकी खेती अगर आप करना चाहते हैं तो आपको 50000 रूपये का खर्च करना होगा जिसके माध्यम से आप 10 क्विंटल ढींगरी मशरूम आसानी से उगा सकते हैं। 

3. दूधिया मशरूम :

इस प्रजाति के मशरुम को गर्मी के मौसम में उगाया जाता है क्योंकि गर्मी का वातावरण इस प्रजाति के मशरूम के लिए काफी उपयुक्त है और इसकी खेती अधिकांशतः दक्षिण भारत में की जाती है। 

4. पैड़ी स्ट्रॉ मशरूम :

इस प्रकार के मशरूम की खेती के लिए उच्च तापमान की आवश्यकता पड़ेगी। ये मशरूम चार हफ्तों के अंदर तैयार हो जाता है और इस मशरुम की सबसे खास बात है कि इसके अंदर विटामिन और पोषक तत्व बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते है। इसलिए इसका इस्तेमाल करना हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद है। 

5. शिटाके मशरूम :

इस प्रजाति के मशरुम को औषधि मशरुम भी कहा जाता है। यही वजह है कि घरेलू इस्तेमाल के अलावा इसे बेचकर अच्छा खासा मुनाफा कमाया जा सकता है पूरी दुनिया में जितने भी टाइप के मशरूम का उत्पादन किया जाता है। उस सूची में इसका नंबर दूसरा है। इसमें Fat और शुगर नहीं पाया जाता है यही वजह है कि इसका इस्तेमाल डायबिटीज और ह्रदय रोग वाले रोगियों के लिए फायदेमंद है। 

मशरूम की खेती के लिए बीज कहाँ से खरीदेंगे

मशरुम के बीज (seeds) को आप आपने नजदीकी सरकारी कृषि सेंटर से खरीद सकते है या आप चाहे तो इसे ऑनलाइन भी indiamart से खरीद सकते है। इसके बीज की कीमत प्रति किलो 70 से 80 रूपये होती है और कई बार तो यहां पर भारी-भरकम डिस्काउंट भी दिया जाता है इसे आपको बीज खरीदने में आसानी हो। 

मशरुम के बीज खरीदने के लिए क्लिक करें – https://www.indiamart.com

मशरूम की खेती का व्यापार शुरू कैसे करें? (Mushroom ki kheti kaise kare in hindi)

mushroom cultivation in hindi

सही जगह का चयन करें

मशरूम की खेती के लिए सबसे पहले आपको एक जगह का चयन करना काफी आवश्यक होता है क्योंकि इसके ऊपर ही निर्भर करेगा कि आपकी मशरूम की खेती की पैदावार अच्छी होगी या नहीं इसलिए अगर आप इसकी खेती कमरे से शुरू कर रहे हैं तो सर्दी के मौसम में इसकी खेती आप शुरू कर सकते हैं।

क्योंकि शीतकाल का मौसम इसकी खेती के लिए काफी उपयुक्त माना जाता है क्योंकि ठंडी के समय कमरे का तापमान काफी अनुकूल रहता है दूसरी तरफ अगर आप इसकी खेती बाहर कर रहे हैं तो उसके लिए 250 स्क्वायर फीट से लेकर 1000 स्क्वायर फीट जमीन की आवश्यकता पड़ेगी तभी जाकर आप इसकी खेती अच्छी तरह से कर पाएंगे। 

कंपोस्ट बनाना

मशरूम की खेती के लिए खाद की सबसे अधिक आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको कंपोस्ट खाद का इस्तेमाल कारन होगा। क्योंकि कंपोस्ट खाद के इस्तेमाल से इसके पैदावार को बढ़ाया जा सकता है। कंपोस्ट खाद बनाने के लिए आप धनिया, गेहूं, धान के भूसे का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले आपको 1500 लीटर पानी लेना होगा। उसमें आपको 1.5 किलोग्राम फॉर्मलीन और 150 ग्राम बेबिस्टीन मिलाकर इसके अंदर 1 क्विंटल 50 ग्राम धान या गेहूं का भूसा डाल देंगे और अच्छे से मिक्स कर देंगे और फिर आपको इस मिश्रण को ढक कर रखना है ताकि भूसा का शुद्धिकरण हो सके एक बात का ध्यान रखेगा यदि भूसा का शुद्धिकरण नहीं होता है तो मशरूम का उत्पादन अच्छी तरह से नहीं हो पाएगा इसलिए आप इस बात का ध्यान रखिएगा। 

मशरूम की बुवाई

अब आपको मशरूम की बुवाई करनी होगी। इसके लिए सबसे पहले आपने जो कंपोस्ट खाद बनाया है उसे निकालकर आपको चारों तरफ फैला देना है ताकि उसमें उपस्थित पानी और नमी बाहर निकल जाए इसके बाद आप मशरूम के seeds को बोने के लिए प्लास्टिक के बैग का इस्तेमाल करना है।

अब इस प्लास्टिक में कंपोस्ट खाद को डालेंगे और उसके ऊपर मशरूम के बीजों का छिड़काव करेंगे फिर आप इसके ऊपर कंपोस्ट खाद डालेंगे और फिर आप मशरुम के बीजों का छिड़काव करेंगे इस प्रक्रिया को चार बार आपको पूरा करना होगा।

अब आपको प्लास्टिक थैली के  दोनों तरफ छेद करना होगा ताकि कंपोस्ट खाद के अंदर मौजूद पानी निकल जाए। और आप फिर आप इस प्लास्टिक को अच्छी तरह से बांध देंगे और ऐसी जगह रखेंगे जहां पर इसमें हवा प्रवेश ना कर सके. आपको बता दें की मशरूम के बीजों की बुवाई मशरूम प्रजाति के अनुसार अलग-अलग होती है। 

मशरूम को हवा से बचा के रखना

मशरुम के बुवाई की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आप मशरूम के थैले को ऐसी जगह रखेंगे जहां पर हवा बिल्कुल प्रवेश न कर सके। क्योंकि अगर हवा लग जाती है तो आपके मशरूम खराब हो सकते हैं क्योंकि उस समय इसके अंदर नमी बहुत अधिक होती है और 15 दिनों के बाद आप अपने घर के कमरे को खोलेंगे।

और इसे हवा के संपर्क में लाएंगे ताकि इन मशरूम को हवा मिल सके. लगभग 15 दिनों बाद मशरूम के सफेद रंग को आप देख पाएंगे। सबसे महत्वपूर्ण बात है कि अगर आपके घर में हवा रुकने का कोई जरिया नहीं है तो आप घर में पंखे का इस्तेमाल करें जिस की गति काफी तेज होनी चाहिए तभी जाकर 15 दिनों के बाद आप मशरूम को प्राप्त कर पाएंगे।

मशरूम के थैले रखने के तरीके

मशरूम के थैले को आप अच्छी तरह से रखें तभी जाकर मशरूम की पैदावार अच्छी होगी। आप चाहे तो मशरूम के थैले को लोहे का एक पलंगनुमा जंजाल बनाकर या किसी लकड़ी और रस्सी के जरिये इसके थैले को टांग देंगे ताकि थैले का रखरखाव अच्छी तरह से हो सके ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप थैले रखरखाव कैसे करेंगे। 

मशरूम की फसल की कटाई

मशरूम का फसल 50 से 60 दिनों के भीतर तैयार हो जाता है उसके बाद आपको इसके फसल की कटाई करनी होगी इसके बाद आप फसलों को एक अच्छी जगह पर रखें ताकि आपके मशरूम खराब ना हो जाए। 

मशरूम की खेती के लिए पंजीकरण करवाएं

देखिये अगर आप मशरुम की खेती का व्यापार बड़े लेवल पर कर रहे है तो इसके लिए आप रजिस्ट्रेशन जरूर करवाएं। तभी जाकर आप मशरूम की खेती का व्यापार अच्छे तरीके से बिना रोक टोक के कर सकेंगे।

पंजीकरण करवाने के लिए आपको अपना आधार कार्ड, पैन कार्ड और कुछ आवश्यक डॉक्यूमेंट साथ लेकर गवर्नमेंट ऑफिस में जाएंगे। जहां पर पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। रजिस्ट्रेशन करवाने के एक फायदा ये है की इससे आपको सब्सिडी और लोन मिलने में आसानी होगी, इसलिए आप पंजीकरण जरूर करवाएं। 

मशरूम की खेती के लिए सरकारी सब्सिडी

भारत के कई राज्यों में सरकार मशरूम की खेती के लिए व्यापारियों को सब्सिडी प्रदान करती है ताकि अधिक मात्रा में किसान मशरूम की खेती कर सके। ऐसे में आपको सब्सिडी कितना मिलेगा ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस राज्य में रहते हैं।

प्रत्येक राज्य में सब्सिडी का मापदंड अलग अलग होता है। हालांकि भारत सरकार के द्वारा वर्ष 2010 में मशरूम की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी देने की योजना का शुभारंभ किया गया था जिसके मुताबिक किसानों को 50% तक की सब्सिडी दी जाएगी। 

मशरूम की खेती के लिए लोन कितना मिलता है?

मशरूम की खेती के लिए भारत सरकार किसानों को लोन भी प्रदान करती है अगर आप भी मशरूम की खेती करना चाहते हैं और आपके पास पैसे नहीं है तो आप को बैंक से ₹100000 से लेकर ₹1000000 तक का लोन मिल जाएगा जिससे आप मशरूम की खेती आसानी से शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने नजदीकी कृषि केंद्रों पर संपर्क कर सकते है। 

मशरूम की खेती की ट्रेनिंग

मशरूम की खेती का व्यापार अगर आप शुरू करना चाहते हैं तो आपको मशरूम की खेती का ट्रेनिंग जरूर प्राप्त करना चाहिए। ट्रेनिंग के माध्यम से आपको मशरूम की खेती के बारे में व्यापक जानकारी मिलती है कि सही तरीके से मशरूम की खेती कैसे की जाती है।

इससे आप अपने मशरूम के पैदावार को बढ़ा सकते हैं। इसकी ट्रेनिंग कृषि विश्वविधालय कृषि केंद्रों में दी जाती है। सामान्यतः इसकी ट्रेनिंग 15-20 दिनों की होती है। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद आप इसका सर्टिफिकेट भी दिया जाता है। ट्रेनिंग के बाद आप अच्छी तरह से इसकी खेती कर अच्छी पैदावार ले सकेगें। 

मशरूम की खेती में कितना इन्वेस्ट करना होगा

मशरूम की खेती के लिए निवेश कितना करना होगा ये इस बात पर निर्भर करेगा कि आप इस खेती को किस पैमाने पर शुरू कर रहे हैं अगर आप की खेती छोटे पैमाने पर शुरू कर रहे हैं तो आपको यहां पर ₹10000 से लेकर ₹50000 तक का निवेश करना पड़ेगा।

और अगर इसकी खेती बड़े पैमाने पर करने की सोच रहे है तो आपको 100000 रुपए का निवेश करना पड़ेगा। मशरुम के खेती करने में जो भी चीजें लगती है जैसे धान या गेंहूं का भूसा, कीटनाशक इत्यादि उसे आप अपने आस पास के मार्किट में ही मिल जाता है इसलिए इसकी खेती करने में ज्यादा दिक्कतों का सामान नहीं करना पड़ता है। तो आप इसे मात्र 1 लाख रूपये लगाकर इसकी बड़े स्तर पर पैदवार कर सकते है और अच्छा मुनाफा कमा सकते है। 

मशरूम की मार्केटिंग कैसे करें?

देखिये हमारे समाज में एक कहावत है जो दिखता है वो ही बिकता है। आगर आप मशरूम का बिजनेस आप शुरू कर रहे हैं तो आपको इसकी मार्केटिंग जबरदस्त तरीके से करनी होगी। तभी जाकर आपका प्रोडक्ट तेजी के साथ मार्केट में बिक पाएगा। जैसा कि आप लोग जानते हैं कि आज के समय सोशल मीडिया का जमाना है।

ऐसे में अगर आप अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग जितना अधिक करेंगे उतना अधिक कि आपका प्रोडक्ट लोगों की नजर में आएगा जिससे आपके प्रोडक्ट अधिक लोगों के द्वारा खरीदे जा सकेंगे। आप अपने मशरूम को होलसेल और रिटेल प्राइस में भी बेच सकते हैं या आप चाहे तो आपके नजदीकी शहर में जितनी भी फल फ्रूट्स की अच्छी दुकान है वहां पर आप मशरूम की सप्लाई कर सकते हैं। 

मशरूम की खेती से मुनाफा कितना होगा

मशरूम की खेती के द्वारा मुनाफा कितना होगा इस बात पर निर्भर करेगा कि आप इसकी खेती किस स्तर पर कर रहे हैं अगर आप इसे अपने घर में छोटे स्तर पर खेती कर रहे हैं तो आप इसके माध्यम से 10 से ₹15 महीने तक आसानी से कमा सकते हैं और अगर आप बड़े पैमाने पर इसकी खेती कर रहे हैं तो महीने में आप ₹50000 से लेकर ₹70000 तक कमा सकते हैं आज की समय में मार्केट में 1 किलो मशरूम की कीमत ₹200 है। 

FAQ’s – मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? (Mushroom ki kheti kaise kare)

Q. भारत में मशरूम कहां उगाया जाता है?

Ans- भारत में इसकी खेती बिहार, उतर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, वेस्ट बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र, केरल इत्यादि राज्यों में बहुत अधिक होती है।

Q. प्रश्न- मशरूम की खेती कब और कैसे की जाती है?

Ans- मशरूम की खेती के लिए 22-25 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान की आवश्यकता होती है। आप चाहे तो इसकी खेती ठंडी मौसम में भी कर सकते है। इसकी खेती धनिया, गेहूं, धान के भूसे से बनी कम्पोस्ट खाद में की जाती है।

Q. मशरूम की खेती के लिए बीज कहाँ से मिलेगा?

Ans- मशरूम का बीज आप कृषि विश्वविद्यालयों या नजदीकी कृषि केंद्र या किसी प्राइवेट विक्रेता से खरीद सकते हैं। या आप चाहे तो इसे indiamart जैसे ऑनलाइन शॉपिंग साइट से भी खरीद सकते है।

Q. मशरूम की खेती में कितना खर्च आता है?

Ans- मशरूम की खेती करने में कितना खर्चा आएगा, ये पूरी तरह से इस पर निर्भर करता है की इसे आप किस पैमाने पर कर रहे है। छोटे स्तर पर इसकी खेती आप 10 हजार से लेकर 20 हजार रूपये में तो वही बड़े स्केल पर इसकी खेती के लिए लगभग एक लाख रूपये का खर्चा आता है।

Q. मशरूम की खेती कितने दिन में तैयार हो जाती है?

Ans- सामान्यतः मशरूम का फसल 50 से 60 दिनों के भीतर तैयार हो जाता है।

Q. मशरूम को कहाँ बेचा जाता है?

Ans- मशरूम की फसल काटने के बाद आप इसे अपने नजदीकी शहर के सब्जी मंडी में या किसी होटल में बेच सकते है जहाँ पर आपको अच्छी कीमत मिल जाएगी। इससे आपकी अच्छी कमाई हो जाएगी। या आप चाहे तो अपना खुद का ब्रांड बनाकर भी इसे नजदीकी मार्किट में बेच सकते है।

Q. मशरूम का बीज कितने रुपए किलो मिलता है?

Ans- मशरूम की खेती के लिए अच्छी किस्म की बीज आप अपने नजदीकी शहर के बीज भंडार से प्राप्त कर सकते है. या आप चाहे तो इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते है वर्तमान समय में मशरूम के बीज की कीमत 80 रूपये से 150 रूपये प्रति किलोग्राम। है

आज आपने क्या सीखा –

आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? (mushroom ki kheti kaise karen) अच्छा और ज्ञानवर्धक लगा होगा, आज के इस लेख से आप अच्छे तरीके से मशरूम की खेती कैसे करेंगे, इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो गई होगी।

इस लेख को प्यार देने के लिए इसे आप अपने दोस्तों के साथ-साथ सोशल मीडिया साइट्स पर भी जरूर शेयर किसी भी तरह के सवाल, सुझाव के लिए आप कमेंट जरूर करें, धन्यवाद!

Read More –

Businessguidehindi
Businessguidehindihttps://businessguidehindi.com
नमस्कार दोस्तों, मैं Rahul Niti एक Professional Blogger हूँ और इस ब्लॉग का Founder, Author हूँ. यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं। ये ब्लॉग आपको बिज़नेस आइडियाज, मेक मनी, इन्वेस्टमेंट, फाइनेंस और अन्य प्रकार की जानकारिया देता है।
RELATED ARTICLES

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Post