HomeSHARE MARKETEquity Share क्या होता है? Equity Share Meaning in Hindi

Equity Share क्या होता है? Equity Share Meaning in Hindi

अगर आप Share Market में Invest करते है या शेयर मार्किट से सम्बंधित जानकारियाँ रखते है तो आपने Equity Share का नाम जरूर सुना होगा पर क्या आप जानते है की  Equity share क्या होता है? और यह कितने प्रकार का होता है Equity को शेयर मार्किट से खरीदते कैसे है अगर आप इन सभी चीजों के बारे में नहीं जानते है तो आप इस आर्टिकल Equity Share क्या होता है? (Equity Share meaning in hindi) को अंत तक जरूर पढ़े। तो आइये जानते है। 

इक्विटी शेयर का मतलब क्या होता है?? (Equity Share Meaning in Hindi)

equity share kya hai hindi

इक्विटी शेयर (Equity Share) का मतलब होता है कि जब आप Share Market में किसी भी कंपनी के Share को खरीदते हैं तो आप उस कंपनी में हिस्सेदार बन जाते हैं आसान भाषा में कहें तो जब आप किसी भी कंपनी के Share को खरीदते हैं तो उसे इक्विटी शेयर कहा जाता है।

आप जब भी किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के शेयर को नहीं खरीद रहे हैं बल्कि उसके Equity को खरीदते हैं और जितना अधिक आप Equity खरीदेंगे उतना अधिक ही आपको कंपनी में हिस्सेदारी बढ़ेगी। इसके अलावा आप कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के चयन में वोटिंग भी कर सकते हैं। 

Equity share मे निवेश कैसे करें? (How to invest in Equity Shares)

अगर आप Equity Share में Invest करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको रजिस्टर्ड Stock Broker के द्वारा अपना Demat Account ओपन करना होगा। अब आपके मन में सवाल आ रहा है कि आप आखिर में इक्विटी शेयर में निवेश कैसे करेंगे तो मैं आपको बता दूं कि जब कोई कंपनी Share Market में अपने Share को लॉंच करना चाहती है।

तो उसे सबसे पहले अपने कंपनी का आईपीओ (IPO) लॉन्च करना पड़ता है और आप उस कंपनी के IPO को खरीद ले इसके अलावा अगर वह कंपनी Share Market में List हो जाती है तो आप सीधे उस कंपनी के Share को ऑनलाइन तरीके से खरीद सकते है। 

Equity share कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Equity Shares)

Equity Share दो प्रकार के होते हैं जिसका विवरण हम आपको नीचे बिंदु अनुसार संक्षिप्त में देंगे तो आइए जाने। 

Equity Shareholders

Equity Share होल्डर वो होते है। जिन्हे कंपनी में वोट देने का अधिकार प्राप्त होता है। जितने परसेंटेज के इक्विटी शेयर होल्डर होते है उसके अनुसार कंपनी के हिस्सेदार होते हैं और ये कंपनी के बारे में अपना विचार रख सकते हैं। Equity Share होल्डर को कंपनी का Dividend कंपनी के मुनाफे के मुताबिक उन्हें दिया जाता है।

अगर किसी भी साल कंपनी को कोई Benefit नहीं हुआ तो ऐसे में आपको कंपनी की तरफ से कोई भी Benefit का हिस्सा नहीं दिया जाएगा यदि कंपनी दिवालिया हो जाती है तो ऐसी स्थिति में कंपनी को पैसे Equity Shareholders को लौटाने पड़ेंगे। 

Preference Shareholders

Preference Shareholders को वोटिंग का अधिकार नहीं होता। लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि अगर कंपनी को कोई मुनाफा होता है तो कंपनी सबसे पहले मुनाफा पर Preference Shareholders को देगी उसके बाद ही कंपनी Equity Shareholders को मुनाफा देगी। 

प्रेफरेंस शेयर होल्डर्स को कंपनी का मुनाफा Preference Share को फिक्स रेट के अनुरूप दिया जाता है इस प्रकार के होल्डर्स को इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता की कंपनी का मुनाफा कम हुआ या ज्यादा उन्हें बस अपने मुनाफे से मतलब होता है जो कंपनी की तरफ से फिक्स किया गया है। 

प्रेफरेंस शेयर होल्डर्स को हर किसी मे प्रेफरेंस दी जाती है। जैसे की कंपनी का मुनाफा पहले प्रेफरेंस शेयर होल्डर्स को दिया जाता इसके अलावा अगर कंपनी दिवालिया हो जाती है तो कंपनी अपने पूरे बिजनेस के संपत्ति को बेच कर पैसा इनको वापस लौटाएगी। 

इक्विटी ट्रेडिंग क्या है? (What is Equity Trading in Hindi)

जब ट्रेडर्स किसी भी कंपनी के सामान्य शेयर को खरीदते या बेचते हैं तो इसे ही इक्विटी ट्रेडिंग कहते हैं. इक्विटी ट्रेडिंग निम्न प्रकार से की जा सकती है। 

इक्विटी डिलीवरी (Equity Delivery)

जब Investers इक्विटी डिलीवरी में Trading करता है तो इसका मतलब साफ होता है कि निवेशक एक ट्रेडिंग सीजन में Share को खरीदा है और उसके बाद दूसरे ट्रेडिंग सीजन में उसे बेच सकता है बेचने का समय एक दिन, एक हफ्ते, एक साल, एक महीने भी हो सकता है ये कुल मिलाकर Investers के ऊपर निर्भर करता है कि वह अपने शेयर को कितने दिनों में बेचना चाहता है. दो अलग – अलग सेशन में इक्विटी ट्रेडिंग करने को इक्विटी डिलीवरी कहते हैं। 

इक्विटी इंट्राडे (Equity Intraday)

इस प्रकार के Trading में Investers एक ट्रेडिंग सेशन में Stocks को खरीदते और बेचते है तो इसे Equity Intraday कहा जाता है. Equity Intraday में निवेशक कुछ घंटों, मिनटों या सेकंड में भी Shares को खरीदकर बेच सकता है। 

किसी कंपनी में इक्विटी कितने लोगों को दी जा सकती है?

  • कम्पनी के शेयरधारक (Shareholders) या Invester को 
  • कम्पनी के Promoters को 

Equity Share Market क्या होता है?

Equity Share Market का मतलब होता है Share Market या Stock Market जहां पर आप किसी भी कंपनी के Share को खरीद और बेच सकते हैं। 

Equity Share से कंपनी को क्या Benefit होता है?

  • इक्विटी शेयर पर कंपनी अपनी मर्जी से Divident देती है, अगर कंपनी ये Decision लेती है कि Divident नहीं देना है  तो इन्हे यानि की इक्विटी शरहोल्डर्स को कोई Divident नहीं मिलता है। 
  • इक्विटी शेयर जारी करने से कंपनी की संपत्ति के के ऊपर कोई अतिरिक्त दायित्व नहीं आता है। 
  • इक्विटी शेयर, स्टॉक मार्केट पर आसानी से खरीदा और बेचा जा सकता है। 
  • कंपनी अगर पूंजी जुटाना चाहती है तो उससे इक्विटी शेयर का इस्तेमाल करना होगा। 
  • कंपनी की संपत्ति पर कोई शुल्क बनाए बिना इक्विटी शेयर जारी किया जा सकता है। 

Equity Shareholders को मिलने वाले फायदे

इक्विटी शेयर होल्डर को कई फायदे मिलते है जिसकी चर्चा निम्नलिखित की गई है। 

  • इक्विटी शेयर होल्डर कंपनी के Real Owner होते हैं।
  • कंपनी अगर मुनाफा कमाती है तो सबसे ज्यादा मुनाफा इक्विटी शेयर होल्डर का ही होता है.
  • इक्विटी शेयर होल्डर को कंपनी में वोटिंग के Rights प्राप्त होते हैं। 
  • इक्विटी शेयर होल्डर का कंपनी के कामों पर नियंत्रण रहता है। 
  • इक्विटी शेयर होल्डर, Share Market में आसानी से Trade कर सकते है। 
  • कंपनी अगर शेयर मार्केट मे अच्छा मुनाफा कमाती है तो इक्विटी शेयर होल्डर को बोनस भी मिलता है.
  • Equity share मे आपको ज्यादा रिटर्न प्राप्त होगा। 

Equity Shareholders को होने वाले नुकसान

अब चुकीं equity share के कई फायदे है तो इसके कई नुकसान भी है जिन्हें निचे बिंदुनुसार बताई गई है। 

  • एक तरह से देखा जाय तो इक्विटी शेयर में बहुत रिस्क होता है, कंपनी में इन्वेस्ट करने के बाद इसकी कोई गारंटी नहीं होती है कि पैसा आपको Return मिलेगा ही यदि कंपनी को Loss होता है तो पैसे इक्विटी शेयर होल्डर का ही डूबता है। 
  • equity shareholsers के लिए Divident फिक्स नहीं होता है, पहले कंपनी Preference Share Holder को Dividend देती है और अंत में बचने पर ही equity shareholders को दिया जाता है। 
  • कंपनी के दिवालिया होने पर सबसे ज्यादा Loss इक्विटी शेयर होल्डर का ही होता है। 

FAQ’s –

Q. 10% इक्विटी का क्या मतलब है?

Ans – मान लीजिये एक XYZ कंपनी है और इस कंपनी के पास कुल एक लाख शेयर है और अगर आप इस कंपनी के 10 हजार शेयर खरीद लेते है तो आपकी इस XYZ कंपनी में 10 प्रतिशत Equity कहलाएगी मतलब आप XYZ कंपनी के 10 परसेंट हिस्से के मालिक है।

Q. सरल शब्दों में इक्विटी शेयर क्या होते हैं?

Ans – अगर आप किसी कंपनी के कुछ हिस्से को शेयर के रूप में खरीद रहे है तो दरअसल आप उस कंपनी के इक्विटी शेयरहोल्डर कहलायेंगे और मतलब आपने उस कंपनी के छोटा सा हिस्सा ही क्यों ना ख़रीदा हो। आप उस कंपनी के अपने हिस्से के मालिक कहलायेंगे और साथ ही इक्विटी शेयर होल्डर को कंपनी में वोटिंग के Rights भी प्राप्त होते हैं। 

Q. भारत में कुल कितने शेयर बाजार है?

Ans – भारत में पहले कुल 24 स्टॉक एक्सचेंज हुआ करते थे पर अब इसकी संख्या घटकर 23 हो गई है।

आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल Equity Share क्या होता है? (Equity Share meaning in hindi) अच्छा और ज्ञानवर्धक लगा होगा इस आर्टिकल को पढ़कर आप Equity Share के बारे में अच्छे से जान गए होंगे, बाकी इस आर्टिकल को प्यार और स्नेह देने के लिए इसे दोस्तों के साथ साथ सोशल मीडिया पर भी जरूर शेयर करें धन्यवाद!

Read More –

Businessguidehindi
Businessguidehindihttps://businessguidehindi.com
नमस्कार दोस्तों, मैं Rahul Niti एक Professional Blogger हूँ और इस ब्लॉग का Founder, Author हूँ. यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं। ये ब्लॉग आपको बिज़नेस आइडियाज, मेक मनी, इन्वेस्टमेंट, फाइनेंस और अन्य प्रकार की जानकारिया देता है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Post